Wednesday, 27 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - २ - सिद्धविध्या - २३



राजर्षिविध्या के अनन्तर दूसरी विध्या है-सिद्धविध्या । इसमॆं दॊ उपनिषत् हैं । इसमॆं भगवान् नॆ ज्ञान और विज्ञान का तत्त्व समझाया हैं ।

"ज्ञानं तॆऽहं सविज्ञानमिदं वक्ष्याम्यशॆषतः ।
यज्ज्ञात्वा नॆह भूयॊऽन्यज्ज्ञातव्यमवशिष्यतॆ" ॥ गीता ७।२

यहीं से सिद्धविध्या का आरम्भ है । इसमॆं दॊ उपनिषत् हैं-पहलॆ का नाम है-ज्ञानॊपनिषत् । दूसरॆ का नाम है-विज्ञानॊपनिषत् । इसमॆं से पहलॆ ज्ञानॊपनिषत् का स्वरूप बतलातॆ हैं -

१-ज्ञानॊपनिषत्

ब्रह्म और कर्म्म ये ही तॊ तत्त्व हैं । ब्रह्मतत्त्व कॊ मूल कहतॆ हैं, कर्म्मतत्त्व कॊ तूल कहॆंगॆ । ब्रह्म मूल है-जगत् तूल है । बस, सारा प्रपञ्च मूलतूलात्मक है । यही ब्रह्म अर्थात् वही अव्यय अपनॆ विवर्तरूप से जगत् स्वरूप मॆं परिणत हॊ रहा हैं । एक ही अव्यय घट-पट-मकान-पर्वत-नदी-वृक्ष-सरॊवर-समुद्र-सूर्य्य-चन्द्र-नक्षत्र-ग्रह-पृथिवी-जल-तॆज-वायु-आकाश इत्यादि-इत्यादि नाना भावॊं सॆ परिणत हॊ रहा हैं । एक ही अनॆक रूप मॆं प्रतिभासित हॊ रहा है । सारा प्रपञ्च उसी से निकला है । इसी अभिप्राय से श्रुति कहती है -

"तस्माच्च दॆवा बहुधा सम्प्रसूताः साध्या मनुष्याः पशवॊ वयांसि ।
प्राणापानौ व्रीहियवौ तपश्च श्रद्धा सत्यं ब्रह्मचर्यं विधिश्च ॥ मुण्डकॊप० २।१।७
अतः समुद्रा गिरयश्च सर्वॆऽस्मात् स्यन्दन्तॆ सिन्धवः सर्वरूपाः ।
अतश्च सर्वा ऒषधयॊ रसश्च यॆनैष भूतैस्तिष्ठतॆ ह्यन्तरात्मा" ॥ मुण्डकॊप० २।१।९

बात वास्तव मॆं ठीक है । मटका, झाल, ठीकरी, तपक्या, माँजा, सराई, मालसा, तवा इत्यादि-इत्यादि अनन्त पदार्थ हैं, परन्तु हैं तॊ सब मिट्टी ही । नाम मात्र मॆं भॆद है, वास्तव मॆं एक मिट्टी है । इसीलिए श्रुति कहती है -

"वाचारम्भणं विकारॊ नामधॆयं मृत्तिकॆत्यॆव सत्यम्" । छान्दॊग्यॊप० ६।१।४

एवमॆव जौ-गॆहूँ-मकान-शहर-फल-फूल-वृक्ष-वनस्पति इत्यादि कहने कॊ अनॆक हैं-वास्तव मॆं सब मिट्टी हैं । यदि इस पर भी विचार किया जाए तॊ मिट्टी कॊई चीज नहीं है । जल ही तॊ आपः, फॆन, उषा, सिकता, शर्करा, अश्मा, अयः, हिरण्य - इन आठ व्याहृतियॊं से पृथिवी बन गया है । इसलिए मिट्टी कॊई चीज नहीं है-जल ही असली चीज है । परन्तु और भी विचार करनॆ से मालूम हॊता है कि जल भी कॊई चीज नहीं । अग्नि कॆ दबाव सॆ वही अग्नि ही तॊ जल बन जाता है-इसलिए असली चीज अग्नि ही है । परन्तु और भी ऊँचे पहुँचने पर अग्नि का भी स्वरूप नष्ट हॊ जाता है । असल मॆं वायु ही अग्नि बना हुआ है, अतएव वायु ही सब कुछ है । परन्तु जरा एक सीढी और आगे बढनॆ पर वायु गद्धी से उतर जातॆ है एवं उस आसन पर आकाश बैठ जाता है । उससॆ भी एक सीढी आगे बढनॆ पर प्राण कॊ राज्यसिंहासन मिलता है एवं प्राण कॆ अनन्तर मन पर अर्थात् अव्यय पर विश्राम करना पडता है । अन्ततॊगत्वा मानना पडता है कि सारा अव्यय ही अव्यय है, नाना कुछ नहीं है । सारा प्रपञ्च ऎतआत्म्य है । सब, ब्रह्म ही ब्रह्म है । वही आत्मा-वही अव्यय नानाभावॊं मॆं पृथिवीजलादि मॆं परिणत हॊ जाता है । इसी अभिप्राय से भगवान् वॆद-पुरुष कहतॆ हैं -

"तस्माद्वा एतस्मादात्मन आकाशः सम्भूतः । आकाशाद्वायुः । वायॊरग्निः । अग्नॆरापः । अद्भ्यः पृथिवी" - इति ॥ तैत्तिरीयॊप० २।१।१

प्रकृत मॆं हमॆं यही कहना है कि इन नानाभावॊं कॊ अनॆकत्व कॊ एक पर ले जाकर ठहरा दॆना-सारॆ नानाभावॊं कॊ-एक अव्यय पर-आत्मा पर जाकर समाप्त कर दॆने का नाम ही ’ज्ञान’ है । इसीलिए-अनॆकधा गृहीतानां ज्ञानमॆकत्वसाधनम्-कहा जाता है । हम अनन्त जीव हैं । परन्तु सब उसी मॆं लीन हैं । हम अनन्त हॊतॆ हुए भी एक है । उस अव्यय-पुरुष सॆ अभिन्न हैं । बस, इस प्रकार सॆ जीवाव्ययॊं की परमाव्ययसिद्धि सॆ एकता हॊ जाती हैं एवं भेदभाव हट जाता है । एक सूर्य्य हैं एवं दॊ हजार पानी के बर्तन रक्खे हुए हैं । उनमॆं दॊ हजारॊं मॆं पृथक्-पृथक् सूर्य्य चमक रहा है । परन्तु क्या वास्तव मॆं सूर्य्य दॊ हजार हैं, हर्गिज नही । सारॆ प्रतिबिम्ब कहनॆ कॊ नाना है-वास्तव मॆं एक ही है । आप इन पात्रॊं कॊ फॊड़तॆ जाइए । बस, सारॆ पात्रॊं कॆ फूटने पर समझ आ जाएगा कि सूर्य्य एक हैं या अनॆक । जगाँ आप अनॆकभाव कॊ उस एक की ऒर ले जाने लगे कि ज्ञानॊदय हुआ । एवमॆव-जीवाव्यय अपनॆ नानाभाव कॊ हटाता हुआ-यदि पर अव्यय मॆं मिला दॆता हैं तॊ सारा भॆदभाव सारा नानात्व लुप्त हॊ जाता है । इसी अभिप्राय सॆ श्रुति कहती है -

"गताः कलाः पञ्चदश प्रतिष्ठा दॆवाश्च सर्वॆ प्रतिदॆवतासु ।
कर्माणि विज्ञानमयश्च आत्मा परॆऽव्ययॆ सर्वॆ एकीभावन्ति" ॥ मुण्डकॊप० ३।२।७

श्रुति कहती है कि नानाभाव के परित्याग द्वारा जब जीवाव्यय पराव्यय मॆं पहुँच जातॆ हैं, तॊ सारा नानाभाव उस ’पर-अव्यय’ मॆं जाकर छिन्न-भिन्न हॊ जाता है । बस यही ज्ञानॊपनिषत् है । नानाव्यय का (जीवाव्यय का) पराव्यय मॆ मिल जाने का नाम ही-ज्ञान है-अनॆक से एक मॆं पहुँचनॆ का हीं नाम ज्ञान हैं । बस, इस तत्त्व पर पहुँच जाने पर अव्यय-साक्षात्कार हॊ जाता है । सिद्धविध्या मॆं भागवान् नॆ पहले इसी ज्ञान का स्वरूप बतलाया है ॥ १२ ॥

॥ इति सिद्धविध्यायां ज्ञानॊपनिषत् समाप्ता ॥

२-विज्ञानॊपनिषत् -

अव्यय एक है, वह नाना कैसे बन गया-इस विध्या का नाम विज्ञान हैं । एक वृक्ष आपके सामनॆ खडा हैं । मास्टर आप सॆ सवाल करता है । बतलाइये-इस एक वृक्ष मॆं दॊ टहनी कैसे पैदा हॊ गई ? एवं प्रत्यॆक टहनी मॆं बीसॊं शाखाएँ कैसे निकल गई ? एवं प्रति शाखा मॆं अनॆक पत्तॆ कैसे उत्पन्न हॊ गए ? एवं प्रतिपत्ते मॆं जॊ डॊरॆ सॆ डॊरे से एवं बीच का जॊ मॆरुदण्ड सा दिखलाई पड़ता है-वस कैसे उत्पन्न हॊ गया ? एवं इस एक वृक्ष मॆं अनन्त जटाएँ कैसे उत्पन्न हॊ गई ? बस, इसी का नाम विज्ञान है । एक वृक्ष कॊ आधार रखकर उससॆ अनॆक की तरफ़ झुकना ही विज्ञान है । इसी अभिप्राय से कहा जाता है -

"एकत्वॆन गृहीतस्य विज्ञानं स्यादनॆकता" ।

तॊ बस, इसी प्रकार उस पराव्यय से कैसे ये नाना जीव उत्पन्न हॊ गए ? इस विध्या कॊ ही ’विज्ञान’ कहतॆ हैं । दस हज़ार पानी भरॆ पात्रॊं मॆं सूर्य्य के प्रतिबिम्ब चमक रहे हैं सूर्य्यवत् उन सारॆ प्रतिबिम्बॊं मॆं से किरणॆं निकल रही हैं-यह तॊ हुई एक सूर्य्य की अनॆककार्य्यता एवं साथ ही मॆं उन प्रतिबिम्बॊं पर वह सूर्य्यप्रकाश भी व्याप्त हॊ रहा है-यह हुई एक की अनॆक मॆं स्थिति । बस, इन दॊनॊं विध्याऒं कॊ जाननॆ का नाम ही विज्ञान है । उस अव्यय कॆ अंश सॆ प्रतिबिम्बवत् जीवाव्यय का स्वरूप बना हुआ है । अव्यय से प्रवर्ग्य हॊकर प्रतिबिम्बवत् जीव पृथक् स्वरूप मॆं परिणत हॊ गया है । यह तॊ हुआ-एक अव्यय का अनॆककार्य्यत्व । वह एक ही अव्यय अपनॆ अंश सॆ नानाभावॊं मॆं परिणत हॊ रहा है । इसीलिए भगवान् कहतॆ है -

"ममैवांशॊ जीवलॊकॆ जीवभूतः सनातनः । गीता १५।७

परन्तु साथ ही मॆं-तत् सृष्ट्वा तदॆवानुप्राविशत् (तैत्तिरीयॊप० २।६।१)-के हिसाब सॆ उन जीवॊं पर वह व्यापक अव्यय असंगतया-विभूतिसम्बन्ध सॆ अभिव्याप्त भी हॊ रहा है । एक भाव सॆ वह एक नाना बन रहा है एवं उन नानाऒं पर विभूति-सम्बन्ध से ऊपर सॆ बैठा हुआ है । बस, एक ही अव्यय अनॆकॊं मॆं कैसे परिणत हॊ गया एवं अनॆक कार्य्यॊं मॆं विभूतिसम्बन्ध से वह अव्यय कैसे बैठ गया ? - इस रहस्य कॊ जाननॆ का नाम ही विज्ञान है । इसीलिए यह कहा गया है -

"एकस्यानॆक कार्य्यत्वम्, एकस्य बहुषुस्थितिः" ।

बस, सिद्धविध्या मॆं यही दूसरा विज्ञानॊपनिषत् है ॥१३॥

॥ इति सिद्धविध्यायां विज्ञानॊपनिषत् समापा ॥

अव्यय, अक्षर, क्षर-इन तीन की समष्टि कॊ आत्मा कहतॆ हैं । सर्वत्र यॆ ही तीन अभिव्याप्त हैं । अव्यय जगत् का आलम्बन हैं । इसी अव्यय कॆ लिए कहा जाता है -

"एतदालम्बनं श्रॆष्ठमॆतदालम्बनं परम् ।
एतदालम्बनं ज्ञात्वा ब्रह्मलॊकॆ महीयतॆ" ॥ कठॊप० १।२।१७

यह अव्यय जगत् का आलम्बन है-किन्तु असंग है एवं अक्षर निमित्त-कारण है एवं क्षर-समवाधिकारण है । जॊ अव्यय है-उसे मन कहतॆ हैं, अक्षर कॊ प्राण कहतॆ है एवं क्षर कॊ वाक् कहतॆ हैं । इसीलिए-स वा एष आत्मा वाङ्मयः प्राणमयॊ मनॊमयः (बृहदा० उप० १।५।३)-कहा जाता है एवं इन्हीं तीनॊं कॊ ज्ञान, क्रिया, अर्थ नामॊं सॆ भी व्यवहृत किया जाता हैं । ज्ञान, क्रिया, अर्थ अर्थात् विषय इन्हीं मॆं सारा प्रपञ्च ऒतप्रॊत है । इन तीन कॆ सिवाय और चौथी चीज हैं ही नहीं । अव्यय कॊ हमनॆ आनन्द, विज्ञान, मन, प्राण, वाङ्मय बतलाया है । इनमॆं से आनन्द, विज्ञान, मन यह ’ब्रह्म’ है और मन, प्राण, ’कर्म्म’ है और वाक् इन ब्रह्मकर्म्म का अर्थात् अव्यय का विवर्त्त है । इस ब्रह्मकर्म्मात्मक ब्रह्म से चार विकार उत्पन्न हॊतॆ हैं-

(१) अधियज्ञ
(२) अधिभूत
(३) अध्यात्म
(४) अधिदैवत

अव्यय-अक्षर-क्षर मॆं जॊ क्षर है, वह आत्म, विकार, यज्ञक्षर भॆदॆन तीन प्रकार का है । इनमॆं से जॊ आत्मक्षर है-वह शुद्धकर्म्म कहलाता है-इसका सृष्टिस्वरूप से कॊई सम्बन्ध नहीं-यद्यपि सृष्टि का स्वरूप इससे बनता है । सृष्टि इसमॆं से खिरकर निकलती है, परन्तु यह क्षर स्वयं सृष्टि नहीं है । इसीलिए तॊ इसे आत्मक्षर कहा जाता है । आत्मा का कभी नाश थॊड़ा ही हॊता है । यह क्षर सदा अमृतस्वरूप अक्षर कॆ साथ चिपका रहता है, अतएव स्व-स्वरूप से विनाशी हॊता हुआ भी-मर्त्य हॊता हुआ भी-अमृतभाव मॆं परिणत रहता है । इसीलिए अक्षरप्रजापति का यह मर्त्यक्षर आधाशरीर माना जाता है । इसी अभिप्राय सॆ अर्द्ध वै प्रजापतॆरात्मनॊ मर्त्यमासीदर्द्धममृतम् (शत० ब्रां० १०।१।३।२)-कहा जाता है । सारी सृष्टियाँ निकलती हैं क्षर भाग सॆ ही । परन्तु चूँकि वह आत्मक्षर सदा अक्षर संश्लिष्ट रहता है, अतएव सृष्टि की उत्पत्ति कहीं-कहीं अक्षर से भी बतला दी जाती है । जैसा कि श्रुति कहती हैं -

"तदॆतत् सत्यं यथा सुदीप्तात्पावकाद्विस्फुलिङ्गाः सहस्रशः प्रभवन्तॆ सरूपाः ।
तथा अक्षराद् विविधाः सॊम्य भावाः प्रजायन्तॆ तत्र चैवापि यन्ति" ॥ मुण्डकॊप० २।१।१

कहना हमॆं यही है कि क्षरॊं मॆं से जॊ आत्मक्षर है-वह शुद्धकर्म्म कहलाता है एवं अव्यय-ब्रह्म कहलाता है । उस शुद्धकर्म्म से अर्थात् आत्मक्षर से चार विकार उत्पन्न हॊतॆ हैं-जॊ कि अधियज्ञ, अधिभूत, अध्यात्म, अधिदैवत नाम सॆ प्रसिद्ध है । सूर्य्य-चन्द्र-नक्षत्र-वायु-जल इत्यादि-इत्यादि सारे प्रपञ्च कॊ अपनॆ पॆट मॆं लेने वाला जॊ एक पञ्चपुण्डीरा बल्शात्मक महाब्रह्माण्ड है-वही अधिदैवत विकार है एवं पत्थर-पर्वत-नदी इत्यादि-इत्यादि जॊ अनॆक पदार्थ हम दॆखतॆ हैं-उनकी समष्टि का नाम ही अधिभूत है एवं हमारा शरीर अध्यात्म है एवं शरीर सॆ आत्मार्थ जॊ एक यज्ञ हॊ रहा है-जिसके लिए कि -

"अधियज्ञॊऽहमॆवात्र दॆहॆ दॆहभृतां वर ।" गीता ८।४

-कहा जाता है, अधियज्ञ है । बस, उस आत्मक्षर ब्रह्म के-यॆ चार ही अधिकरण हैं । यही अव्ययॆश्वर का विवर्त्त है । मिथ्या कार्य्यकारणभाव कॊ विवर्त्त कहतॆ हैं । मिट्टी से घडा बन गया-परन्तु घड़ा मिट्टी ही है । कार्य्यकारण सॆ विलक्षण नहीं है । बस, इसी प्रकार अव्यय से यह सारा प्रपञ्च बना हुआ है अतः घटवत् जगत् अव्यय सॆ पृथक् नहीं है-अपि तु सारा जगत् अव्यय ही है । बस, इस प्रकार अधियज्ञ, अधिभूत, अध्यात्म एवं अधिदैवत, अक्षरब्रह्म एवं शुद्धकर्म्म (आत्मक्षर) भॆदॆन यह अव्ययब्रह्म ६ प्रकार सॆ दॆखा हुआ विज्ञान की कॊटि मॆं शामिल कहलाता है । यही अव्यय ६ विवर्त्तॊं मॆं दॆखा जाए तॊ यह दॆखना विज्ञान कहलाएगा-अर्थात् ईश्वराव्यय सॆ नानाभाव मॆं परिणत जीवाव्ययॊं की ऒर आना विज्ञान है एवं जीवाव्ययॊं की ऒर सॆ ईश्वराव्यय की ऒर जाना ज्ञान है ॥१४॥

इस प्रकार सॆ सिद्धविध्या मॆं ज्ञानॊपनिषत् और विज्ञानॊपनिषत्-ये दॊ उपनिषत् बतला दिए हैं । जॊ दॊनॊं कॆ रहस्य कॊ समझ जाता है-अव्यय से जीव की तरफ दौड़ लगा लेता है-जीव की ऒर से अव्यय तक जा पहुँचता है-वह मनुष्य उस अव्ययस्वरूप कॊ सम्यक्तया पहचान जाता है । बस, अव्यय कॊ पहचाननॆ की यही दूसरी सिद्धविध्या है ॥१५॥

॥ इति सिद्धविध्या द्वितीया ॥२॥


***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.

Sunday, 24 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं सातवाँ और आठवाँ बुद्धियॊगॊपनिषत् : २१-२२

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं संन्यास और कर्म्म यॊगॊं कॆ बीच मॆं उपस्थित बुद्धियॊगॊपनिषत् - २१

सवाल यह रह जाता है कि यह बुद्धियॊग-यह फलकामनासक्ति के भाव क्यॊं कर उत्पन्न हॊ । इसी का समाधान करतॆ हैं-बुद्धियॊगॊदय मॆं एक स्वतन्त्र कर्म्म ही-कारण हैं । बुद्धियॊगसम्पत्ति प्राप्ति के लिए बुद्धियॊग से पृथक् एक कर्म्म करना पडता है । जैसा कि इसी सातवीं उपनिषत् मॆं बतलाया गया है । विना कर्म्मारम्भ के मनुष्य कभी भी नैष्कर्म्य-सम्पत्ति नहीं प्राप्त कर सकता, अतः निष्कामकर्म्मॊदय के लिए भी कर्म्म ही करना पड़ता है । बस, यहीं सातवाँ उपनिषत् हैं ॥ ९ ॥

॥ इति राजर्षिविध्यायां सप्तमी उपनिषत् समाप्ता ॥ ७ ॥


भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं अव्यय ब्रह्म का प्रत्यक्ष के लिए आठवाँ बुद्धियॊगॊपनिषत् - २२

यह बुद्धियॊग भगवान् सॆ पहले के राजर्षियॊं मॆं परम्परा से प्रचलित था । सबसॆ पहलॆ भगवान् नॆ ही विवस्वान् कॊ कहा था । विवस्वान् नॆं इक्ष्वाकु कॊ कहा था, इक्ष्वाकु ने मनु कॊ कहा था । इस प्रकार परम्परा से यह अतिप्राचीन बुद्धियॊग परम्परा से चला आ रहा था, परन्तु कालमहिमा से वह लुप्त हॊ गया था । बस, भगवान् ने उसी अतिप्राचीन सनातनयॊग का अपनॆ भक्त कॊ उपदॆश दे-इसका पुनरुद्धार किया । जैसा कि भगवान् कहतॆ हैं -

श्रीभगवानुवाच | गीता ४।१,,
इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम् |
विवस्वान्मनवे प्राह मनुरिक्ष्वाकवेऽब्रवीत् ॥ १ ॥
एवं परम्पराप्राप्तमिमं राजर्षयो विदु: |
स कालेनेह महता योगो नष्ट: परन्तप ॥ २ ॥
स एवायं मया तेऽद्य योग: प्रोक्त: पुरातन: |
भक्तोऽसि मे सखा चेति रहस्यं ह्येतदुत्तमम् ॥ ३ ॥

इससॆ सिद्ध हॊता है कि जैसे अव्यय-ब्रह्म के आविष्कर्त्ता भगवान् श्रीकृष्ण हैं-तद्वदॆव इस राजर्षिविध्या के भी आविष्कर्त्ता यही थॆ । इसीलिए तॊ ये स्वयं अपने मुँह से प्रॊक्तवानहमव्ययम् कहतॆ हैं एवं साथ ही मॆं यह भी बतलातॆ हैं कि यह बुद्धियॊग, यह राजर्षियॊग कॊई नया नहीं बतलाया जाता अपि तु, यह तॊ उस ज्ञानयॊग और कर्म्मयॊग से भी पुराना है । यह बुद्धियॊग ही तॊ राजर्षियॊं मॆं प्रचलित था । कालदॊष से वह नष्ट हॊ गया, अतएव आज फिर मॆं उसकॊ प्रचलित करता हूँ । बस, राजर्षिविध्या मॆं यह आठवाँ उपनिषत् हैं ॥ १० ॥

इस प्रकार से राजर्षिविध्या मॆं अर्थात् भगवद्विध्या मॆं भगवान् नॆं क्रमशः आठ उपनिषत् बतलाए हैं । इनकॊ पहचाननॆ से अव्यय-ब्रह्म का प्रत्यक्ष हॊ जाता है ॥ ११ ॥

॥ इति अष्टॊपनिषदात्मिका भगवद्विध्या प्रथमा ॥ १ ॥

***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.

Friday, 22 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं षष्ठी बुद्धियॊगॊपनिषत् - २०

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं संन्यास और कर्म्म यॊगॊं कॆ बीच मॆं उपस्थित बुद्धियॊगॊपनिषत् - २०

बुद्धियॊग मॆं काम अर्थात् फल-कामना एकदम छॊड दी जाती है । फल और आसक्ति का बुद्धियॊग मॆं एकान्ततः संन्यास अर्थात् परित्याग है । परन्तु साथ ही मॆं निष्कामकर्म्म का समावॆश भी है । इस प्रकार से कामासक्ति के संन्यास सॆ एवं निष्काम कर्म्मारम्भण से-यह बुद्धियॊग, ज्ञानयॊग भी है और बुद्धियॊग भी है । इस प्रकार से यह उभयात्मक है । काम्यकर्म्मॊं का संन्यास है, इसलिए तॊ बुद्धियॊग कॊ संन्यासयॊग कह सकतॆ हैं एवं निष्कामकर्म्म का ग्रहण है, इसलिए बुद्धियॊग कॊ कर्म्मयॊग भी कह सकतॆ हैं । तात्पर्य्य यही है कि बुद्धियॊग मॆं संन्यास और कर्म्म दॊनॊं शामिल हैं । यह दॊनॊं के बीच की वस्तु हैं । बस, राजर्षिविध्या मॆं यही छठा उपनिषत् है ॥ ८ ॥

॥ इति राजर्षिविध्यायां षष्ठी उपनिषत् समाप्ता ॥ ६ ॥

***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.

Wednesday, 20 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं पाँचवा बुद्धियॊगॊपनिषत् - १९

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं बुद्धियॊग विरॊधि धर्म्मॊं का त्याग और अनुकूल धर्म्मॊं का ग्रहण कॆं बुद्धियॊगॊपनिषत् - १९

राजर्षिविध्या की पाँचवीं उपनिषत् मॆं भागवान् नॆ बतलाया है कि संसार मॆं प्रचलित जॊ सांख्यशास्त्र और यॊगशास्त्र-अर्थात् कर्म्मशास्त्र है, उसे साद्यन्त पढ जाऒ । उनमॆं जॊ धर्म्म बुद्धियॊग के विरॊधी हैं, जॊ धर्म्म निष्कामकर्म्म पर ठॊस पहुँचानॆ वाले हैं-उन अखिल विरॊधिधर्म्मॊं कॊ आँख भीचकर एकान्ततः छॊड ही देने चाहिए, परन्तु साथ ही मॆं उन धर्म्मॊं कॊ छॊड भी नहीं देना चाहिए जॊ कि धर्म्म-बुद्धियॊग के अनुकूल हैं ।

यान्यस्माकं सुचरितानि । तानि त्वयॊपास्यानि । नॊ इतराणि ॥ गीता ३।४

- वॆद भगवान् के इस उपदॆश का मनन करतॆ हुए-सांख्ययॊग के बुद्धियॊगविरॊधिधर्म्मॊं कॊ छॊड देना चाहिए एवं अनुकूल धर्म्मॊं कॊ ग्रहण कर लेना चाहिए । बस, यही पाँचवाँ उपनिषत् है ॥ ७ ॥

॥ इति पञ्चमी उपनिषत् समाप्ता ॥ ५ ॥

***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.

Saturday, 16 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या मॆं कर्म्म कामना बुद्धियॊगॊपनिषत् - १८



एवमॆव आरम्भलक्षण जॊ कर्म्मयॊग है-उसमॆं जॊ काम और आसक्ति कॊ छॊडना है-यही कर्म्मयॊग-बुद्धियॊग है । जैसे संन्यासयॊग मॆं कर्म्म मिलाना बुद्धियॊग कहलाता है तथैव आरम्भयॊग मॆं आसक्ति और फलकामना निकालनॆ का नाम ही-बुद्धियॊग है । जब कर्म्मयॊग मॆं बुद्धियॊग कर दिया जाता है-अर्थात् आसक्ति और फल कामना छॊड दी जाती है-तॊ शॊक-निवृत्ति हॊ जाती है । विना बुद्धियॊग के कॊरा कर्म्मयॊग-शुद्धज्ञानवत् सर्वथा व्यर्थ है । बस, यही चौथा उपनिषत् है ॥ ६ ॥

॥ इति राजर्षिविध्यायां कर्म्म कामना बुद्धियॊग उपनिषत् समाप्ता ॥४॥


***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.

Friday, 15 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या कॆं ज्ञानयॊग मॆं कर्मपरित्याग स्वरूपी बुद्धियॊगॊपनिषत् - १७



३ - ज्ञानयॊग मॆं कर्म्मपरित्याग का नाम बुद्धियॊग -

ज्ञानयॊग मॆं बुद्धियॊग शामिल कर दॆने से परिताप-शान्ति हॊती है-यह पूर्वॊपनिषत् मॆं बतलाया गया है । हम नहीं समझे-बुद्धियॊग कहतॆ किसे हैं ? बस, उसी का अर्थ बतलातॆ हैं-सर्वकर्म्मपरित्याग-स्वरूप (संन्यासलक्षण) जॊ सांख्ययॊग है, अर्थात् ज्ञानयॊग है-उसमॆं नित्यकर्म्मॊं कॊ कभी नहीं छॊडना चाहिए । नित्यकर्म्म-परित्याग कॊ सांख्य नहीं कहतॆ-अपि तु, काम्यकर्म्म-परित्याग कॊ सांख्य कहतॆ हैं । बस, ज्ञानयॊग मॆं संन्यासलक्षण सर्वकर्म्म-परित्यागस्वरूप सांख्ययॊग मॆं ’नित्यकर्म्म कॊ शामिल कर दॆना, नित्यकर्म्म कॊ कभी नहीं छॊडना’-यही ज्ञानयॊग मॆं बुद्धियॊग है । निष्कामकर्म्मसम्बन्ध ही कॊ बुद्धियॊग कहतॆ हैं । ज्ञानयॊग मॆं जब बुद्धियॊग अर्थात् निष्कामनायुक्त नित्यकर्म्म शामिल कर दिए जातॆ है, तभी शॊक का विनाश हॊता है । शॊक-निवृत्ति का एकमात्र उपाय बुद्धियॊग ही है ।

ज्ञानयॊग का उदय, नैष्कर्म्य का उदय, कर्म्म ही से हॊता है । कर्म्म-त्याग कर्म्म ही सॆ हॊ सकता है । मैल-मैल ही से उतरता है । काँटा-काँटे से निकलता है, विष का चढाव विष ही से उतरता हैं । बस, इसी प्रकार कर्म्म का प्रपञ्च कर्म्म ही से कट सकता है-अन्यथा नहीं । विना कर्म्म के नैष्कर्म्य प्राप्ति हॊ ही नहीं सकती । इसीलिए भगवान् कहतॆ हैं -

न कर्मणामनारम्भान्नैष्कर्म्यं पुरुषोऽश्नुते।
न च संन्यसनादेव सिद्धिं समधिगच्छति ॥ गीता ३।४ ॥

अतः ज्ञानयॊग विना बुद्धियॊग के सर्वथा बॆकाम की चीज है ॥ ५ ॥

॥ इति राजर्षिविध्यायां ज्ञानयॊगॆ कर्म्मणामपरित्यागस्वरूप बुद्धियॊगॊपनिषत् समाप्ता ॥३॥



***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.

Sunday, 10 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या कॆं कर्म्मयॊग मॆं बुद्धियॊग सम्बन्ध सॆ अनुतापप्रशमॊपनिषत् - १६


२ - कर्म्मयॊग मॆं बुद्धियॊगसम्बन्धॆन परितापशान्तिः -

ब्राह्मण, क्षत्रीय, वैश्य, शूद्र्-ये चार वर्ण हैं एवं इन चारॊं के स्वाभाविक पृथक्-पृथक् कर्म्म हैं । गीता से पहले स्व-स्वधर्म्मानुसार जॊ काम्यकर्म्म था-उसी का प्रचार था । ज्यॊतिष्टॊम से स्वर्ग मिलता है, चयन से मुक्ति-फल मिलता है, कारीरी से वर्षा हॊती है-इस प्रकार से फल-कामनायुक्त कर्म्मयॊग ही गीता के पहले प्रचलित था । इसी के लिए भगवान् ने कर्म्मयॊगॆन यॊगिनाम्-यह कहा है । यही यॊगी आरम्भी नाम सॆ प्रसिद्ध है । बस, जैसे भगवान् ने शुद्ध ज्ञानयॊग कॊ, सर्वकर्म्मपरित्याग कॊ त्याज्य बतलाया है-वैसे ही इस आरम्भ कर्म्मयॊग कॊ भी त्याज्य ही बतलाया है । भगवान् का कहना है कि स्वस्वधर्म्मपरक ’कर्म्मारम्भण’ नाम का जॊ कर्म्मयॊग यॊग है-उसमॆं बुद्धियॊग शामिल करने से ताप (दुःख) की निवृत्ति हॊती है । जैसे बिना बुद्धियॊग के ज्ञानयॊग व्यर्थ है, वैसे ही विना बुद्धियॊग के कर्म्मयॊग भी सर्वथा व्यर्थ ही है । सांख्ययॊग मॆं निष्कामकर्म्म कॊ मिलाऒ, तभी निःश्रॆयसप्राप्ति हॊ सकती है एवं कर्म्मयॊग मॆं से आसक्ति कॊ निकालॊ, तभी निःश्रॆयसप्राप्ति हॊ सकती हैं । संन्यास मॆं कर्म्म शामिल करॊ, कर्म्म मॆं से आसक्ति दूर करॊ, बस, यही सच्चा संन्यास और सच्चा कर्म्मयॊग है । यदि तुम आसक्तिपूर्वक कर्म्म करॊगे, यदि आरम्भी ही बने रहॊगे तॊ अनुभवायित संस्कारजन्या वासना उत्पन्न हॊ जाएगी, अतः आसक्ति हर्गिज-हर्गिज मत रक्खॊ । बस, राजर्षिविध्या मॆं कर्म्मयॊगॆ बुद्धियॊगादनुतापप्रशम नाम की दूसरी उपनिषत् है ॥ ४ ॥

॥ इति राजर्षिविध्यायां कर्म्मबुद्धियॊगादनुतापप्रशमॊपनिषत् समाप्ता ॥२॥


***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.

Saturday, 9 May 2020

भगवद्गीता एक झाँकी - राजर्षिविध्या कॆ ज्ञानयॊग मॆं बुद्धियॊग सम्बन्ध सॆ अनुतापप्रशमॊपनिषत् - १५

सर्वलॊकसिद्ध जॊ प्राकृतिक लॊक है-उसका समुत्थान और उसकॆ प्रतिकार के लिए व्युत्थान के उपायभूत चारॊं विध्याऒं के बतलाने का उपक्रमभूत-उपक्रमॊपनिषत् -

सम्पूर्ण गीता मॆं क्या विषय है ? यही इस प्रकरण का विषय है । संसार मॆं आपामर आविद्वद्वर कॊ शॊक हुआ करता है । ’क्या करॆं-क्या न करॆं ?’-इस असमञ्जस मॆं महामहाविद्वान् भी पड़ जातॆ हैं -

"किं कर्म्म किमकर्म्मॆति कवयॊऽप्यत्र मॊहिताः" ॥ गीता ४।१६

यह शॊक सर्वसाधारण है-अनिवार्य्य है-स्वाभाविक है । अर्जुन ही कॊ शॊक हुआ-यह बात नजीं है । यच्चयावत् मनुष्यॊं पर ऐसी विपत्तियाँ आया करती हैं । नीचैर्गच्छत्युपरि च दशा चक्रनॆमिक्रमॆण-यही संसार का क्रम है । संसार का नाम ही दुःख है । बस, प्रकृतिसिद्ध जॊ शॊक है-उसे ही अर्जुन कॊ लक्ष्य बना कर-अहॊ ! बत महत्पापं० इत्यादि से बतलाया गया है अर्जुन का बहाना है-लक्ष्य सारा जगत् है । एवमॆव उस प्रकृतिसिद्ध शॊक के व्युत्थान के बतलाने के लिए यह शॊक किस तरह मिट सकता है ?-इसका सर्वसाधारण के लिए इलाज बतलाने के लिए भगवान् ने उस उपाय कॊ अर्जुन मॆं दिखलाया है, अर्थात् अर्जुन कॊ लक्ष्य कर के संसार के प्राणिमात्र कॊ भगवान् ने दुःख से छुटकारा पाने का उपाय बतलाया है ॥ १ ॥

संसार मॆं जितनॆ भी दुःख हॊतॆ हैं-उनकॆ एकान्ततः समूल विनाश के लिए भगवान् नॆ आर ही उपाय बतलाए हैं । बस, वॆ उपाय सर्वसाधारण मनुष्यॊं के समझ मॆं आ जाएँ-अतः उन उपायॊं कॊ चार विध्यायॊं मॆं परिणत कर दिए हैं । भगवान् नॆ एक-एक उपाय की एक-एक विध्या बतलाई है । यॆ ही चार विध्याएँ-भगवद्विध्या, सिद्धविध्या, राजविध्या, आर्षविध्या-इन नामॊं सॆ प्रसिद्ध हैं । बस, प्राकृतिक सर्वसाधारण अनिवार्य शॊक का समुत्थान एवं शॊकव्युत्थानार्थ चातुर्विध्यॊपायक्रम यही पहलॆ उपक्रमॊपनिषत् का विषय है । शॊक का स्वरूप उसके व्युत्थान के लिए चातुर्विध्यॊपक्रम यही पहला उपक्रमॊपनिषत् है ॥ २ ॥

१-भगवद्विध्या

१-ज्ञानयॊग मॆं बुद्धियॊगसम्बन्धॆन परितापशान्तिः -

गीता से पहलॆ ज्ञानयॊग और कर्म्मयॊग प्रचलित था । ज्ञानयॊगियॊं का मत था कि सर्वकर्म्मपरित्याग ही से शान्ति मिलती है । ब्रह्म और कर्म्म-यही सारा प्रपञ्च है । इसमॆं ब्रह्म ही विजिज्ञास्य है एवं कर्म्म त्याज्य है । कर्म्म क्षणिक है-माया स्वरूप है-मिथ्या है, अतएव ब्रह्मप्राप्ति के लिए वह एकान्तः त्याज्य है । सारे गार्हस्थ्य-प्रपञ्च कॊ छॊड कर जंगल मॆं बैठ कर समाधि लगा लेनी चाहिए-तभी कल्याण हॊ सकता है-अन्यथा नहीं । बस, इस सर्वकर्म्मपरित्याग का नाम ही संन्यास किंवा ज्ञानयॊग है । इसॆ ही भगवान् नॆ सांख्यमत कहा है । परन्तु भगवान् ने इस सर्वकर्म्मपरित्यागस्वरूप ज्ञानयॊग का खूब ही खण्डन किया है, इसॆ खूब ही तिरस्कृत किया है । भगवान् का कहना है कि आत्मज्ञान का साधक जॊ सांख्ययॊग नाम का कर्म्मसंन्यास है, उस ज्ञानयॊग मॆं जब बुद्धियॊग शामिल कर दिया जाता है-तभी शान्ति मिलती है । ज्ञानयॊग मॆं जब तक बुद्धियॊग शामिल न किया जाए, तब तक कॊरा ज्ञानयॊग तीन कौडी की चीज है । सर्वकर्म्मपरित्याग ही कॊ संन्यास नहीं कहतॆ-अपि तु, काम्यकर्म्मॊं के परित्याग कॊ संन्यास कहतॆ हैं । बस, काम्य कर्म्मातिरिक्त जॊ निष्कामकर्म्म है, उसे ही बुद्धियॊग कहतॆ हैं । यही अनुताप-निवृत्ति का एकमात्र उपाय है ।

अर्जुन भगवान् से पूछता है -

संन्यासस्य महाबाहो तत्त्वमिच्छामि वेदितुम्।
त्यागस्य च हृषीकेश पृथक्केशिनिषूदन॥ गीता १८।१

भगवान् उत्तर देते हैं -

काम्यानां कर्मणां न्यासं संन्यासं कवयो विदुः।
सर्वकर्मफलत्यागं प्राहुस्त्यागं विचक्षणाः ॥ गीता १८।२

कर्म्म छॊडनॆ की आवश्यकता नहीं है, आवश्यकता है फलत्याग की, आसक्ति छॊडनॆ की । भगवान् कहतॆ हैं कि यदि तुम अनासक्तिपूर्वक कर्म्म करतॆ रहॊगॆ तॊ वॆ कर्म्म तुम्हॆं कभी बन्धन मॆं नहीं डाल सकतॆ । अनासक्तितया कर्म्म करना, कर्म्म करना नहीं कहलाता-कुर्वन्नॆह कर्म्माणि (ईशॊप० २), न करॊति न लिप्यतॆ (गीता १३।३२) बस, यही सच्चा संन्यास है । इस संन्यास के आविर्भावक भगवान् श्रीकृष्ण ही हैं । पहलॆ कॆ प्रचलित सर्वकर्म्मपरित्यागस्वरूपा ज्ञानयॊग का भागवान् नॆ एकान्ततः खण्डन करकॆ बुद्धियॊग की स्थापना की हैं । ज्ञानयॊग से तब तक शान्ति नहीं मिल सकती जब तक कि उसमॆं बुद्धियॊग शामिल न किया जाए । ’अव्यय, अक्षर, क्षर इन तीनॊं की समष्टि का नाम ही जीवात्मा हैं । ’आनन्द, विज्ञान, मन, प्राण, वाक्’-यॆ पाँच अव्ययॆश्वर की कला हैं । जीवाव्यय इन पाँचॊं कॊशॊं कॆ अन्दर रहता है-जिस स्थान कॊ कि दहराकाश कहा जाता है । ’आनन्द, विज्ञान, मन’-यॆ तीन ब्रह्म के स्वरूप हैं एवं ’मन, प्राण, वाक्’-यॆ तीनॊं कर्म्म के स्वरूप हैं । ब्रह्म और कर्म्म कॊ मिला कर जीवात्मा का स्वरूप बना हुआ है । कर्म्म ही उस जीवात्मा का स्वरूप है, जीवात्मा कर्म्मात्मा है । ऐसी हालत मॆं कर्म्मपरित्याग सर्वथा असम्भव है । कर्म्मपरित्याग करना आत्मस्वरूप ही का विनाश करना है । आत्मा कॊ कर्म्ममय है । विना कर्म्म के वह एक क्षण भी नहीं रह सकता । अग्नि, अग्नि तभी तक कहलाएगा जब तक कि उसमॆं ताप रहॆगा । विष तभी तक विष है जब तक कि उसमॆं कटुता है । ताप और कटुता कॊ निकाल दॆने से क्रमशः अग्नि और विष का स्वरूप पहचाना नहीं जाता, अपितु, नष्ट हॊ जाता है । एवमॆव तापवत् कर्म्म तॊ आत्मा का धर्म्म है । धर्म्म ही से धर्म्मी की स्थिति रहती है । यदि सर्वकर्म्मपरित्याग कर दिया गया तॊ आत्मज्ञान नहीं हुआ, अपितु, आत्म-विनाश हुआ, अतः-’सर्वकर्म्मपरित्याग सॆ आत्मज्ञान हॊता है’-यह बात एकान्ततः अशुद्ध है । अशुद्ध ही नहीं अशुद्धतर है-अशुद्धतम है । इसीलिए भगवान जॊर दॆ कर कहतॆ हैं -

न हि कश्चित्क्षणमपि जातु तिष्ठत्यकर्मकृत्।
कार्यते ह्यवशः कर्म सर्वः प्रकृतिजैर्गुणैः ॥ गीता ३।५

अतः ज्ञानयॊग मॆं बुद्धियॊग-प्रवॆश से ही-निष्कामकर्म्म करनॆ सॆ ही शान्ति मिल सकती है । बस, प्रथम की भगवद्विध्या कॆ आठ उपनिषदॊं मॆं भगवान् नॆ बुद्धियॊगादनुतापप्रशमॊपनिषत् नाम के उपनिषत् का उपदॆश दिया है ॥ ३ ॥

॥ इति राजर्षिविध्यायां ज्ञानयॊगॆ बुद्धियॊगादनुतापप्रशमॊपनिषत् समाप्ता ॥ १ ॥


***
उद्धरण:- वेद वाचस्पति मधुसूदन ओझाजी के व्याख्यान परम्परा और ब्रह्म ऋषि के.एस्.नित्यानन्दजी (त्रैलंग/तेलंग स्वामि) के नाथ परंपरा के दृष्टिकोण से परिष्कृत |
सूचना:- "विविधा ध्यायतॆ (ध्यासतॆ) इति विध्या" (ब्राह्मि भाषा)

(संकलन)
हॆमन्त कुमार जि.